26 फरवरी आज के दिन भारत-विश्व की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

26 फरवरी आज के दिन का इतिहास

  • आज ही के दिन 1966 में वीर सावरकर का निधन हुआ था।
  • आज ही के दिन 1935 में रॉबर्ट वाटसन ने रडार तकनीक का अविष्कार किया।
  • 1829 में आज ही के दिन लेवी स्ट्रॉस का जन्म हुआ।
  • 1887 में आज ही के दिन आनंदीबाई गोपालराव जोशी का निधन हुआ था
  1. वीर सावरकर

    जन्म-28 मई 1833

    मृत्यु-26 फरवरी 1966

हिंदुत्व शब्द और विचारधारा की रचना करने वाले दार्शनिक स्वतंत्रता सेनानी लेखक और नाटककार वीर सावरकर का निधन 1966 में आज ही के दिन हुआ था।

आजादी की लड़ाई के दौरान अखंड भारत की विचारधारा को लाने वाले और उस विचारधारा का समर्थन करने वाले वीर सावरकर ही थे।

वीर सावरकर ने लंदन से लॉ की पढ़ाई पूरी की थी। अपनी पढ़ाई के दौरान उन्होंने एक किताब लिखी जिसका नाम The Indian War of Independence था। इस किताब में वीर सावरकर ने अट्ठारह सौ सत्तावन की क्रांति को भारत की आजादी की पहली लड़ाई बताया था

  1. रॉबर्ट वाटसन वाट

जन्म-13 अप्रैल 1892

मृत्यु-5 दिंसबर 1973

रडार जैसी तकनीक का आविष्कार करने वाले रॉबर्ट वाटसन वाट का जन्म 13 अप्रैल 1892 को हुआ था। रॉबर्ट वाटसन वाट ने 1935 मैं रेडियो प्रणाली के जरिए एयरक्राफ्ट के डिटेक्शन और लोकेशन जानने का आसान तरीका दुनिया के सामने रखा था।

आगे चलकर इसी तकनीक को रडार के नाम से जाना जाने लगा अब इसका इस्तेमाल दुनिया भर में होता है।

  1. लेवी स्ट्रॉस

जन्म-26 फरवरी 1829

मृत्यु-26 सिंतबर 1902

जींस बनाने वाली दुनिया की पहली कंपनी की शुरुआत करने वाले लेवी स्टार्स का जन्म आज ही के दिन 26 फरवरी 1829 में हुआ था।हालांकि पहली बार जींस जैकब डेविस नाम के दर्जी ने 1871 में बनाई थी।

पहली बार जींस खदानों में काम करने वाले लोगों के लिए बनाई गई थी इसके बाद ही जींस पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गई थी।

इसके बाद जैकब डेविस और लेवी स्ट्रॉस ने मिलकर 20 मई 1873 को जिंस को पेटेंट करवाया था और उन्हें इस जिंस का पेटेंट भी मिल गया था।

  1. आनंदीबाई गोपाल राव जोशी

      जन्म-31 मार्च 1865

मृत्यु-26 फरवरी 1887

वेस्टर्न मेडिसिन में डिग्री प्राप्त करने वाली भारत और दक्षिण एशिया की पहली दो डॉक्टर में से एक आनंदीबाई गोपालराव जोशी का जन्म हुआ था।मेडिकल में डिग्री प्राप्त करने के पीछे गोपाल राव जोशी का उद्देश्य यह था कि उनके 10 दिन के बच्चे की मौत हो गई थी तब उन्होंने मेडिकल में डिग्री प्राप्त करने की ठानी। मेडिकल की पढ़ाई को पूरा करने में आनंदीबाई गोपालराव जोशी के पति ने उनका साथ दिया था।आनंदीबाई गोपाल राव जोशी का ग्रेजुएशन पूरा होने के बाद महारानी विक्टोरिया ने उन्हें बधाई दी थी।

25 फरवरी का इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: