टोक्यो ओलंपिक 2020

लवलीन बोरगोहेन ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में कौन सा पदक प्राप्त किया

टोक्यो ओलंपिक 2020

भारत की और से टोक्यों ओलंपिक 2020 में नो मुक्केबाजो को भेजा गया था जिनमें से लवलीन बोरगोहेन का नाम शायद ही किसी को याद होगा की इस नाम की मुक्केबाज भी भारत की तरफ से ओलंपिक में भेजी गयी है क्योंकि भारत के सभी लोग एम सी मैरी कॉम को जानते है लेकिन इस बार ओलंपिक में एम सी मैरी कॉम की जगह भारत को पदक दिलाने का काम असम राज्य के गोलघाट की रहने वाली लवलीन बोरगोहेन ने किया। लेवलीन बोरगोहेन का भारत का खिलाड़ियों के लिए दुसरा सर्वोच्च सम्मान अर्जुन पुरूस्कार से सम्मानित किया गया लेकिन जब उन्हे यह पुरूस्कार मिला तब उनकी मॉ की किडनी खराब हो गयी थी तो उन्होंने पुरूस्कार से मिली राशी से अपना इलाज करवाया।

41 साल बाद भारतीय पुरूष हांकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में कौन सा पदक प्राप्त किया

टोक्यो ओलंपिक 2020

टोक्यो ओलंपिक 2020 में कांस्य पदक विजेता भारत की पुरूष हांकी टीम ने आखिरी बार पदक 1980 के ओलंपिक में जीता था उसके बाद से भारत की पुरूष हांकी टीम को ओलंपिक में पदक जीतने के लिये काफी लंबा 41 साल का इंतजार करना पड़ा जो टोक्यो ओलंपिक 2020 में खत्म हुआ। टोक्यो ओलंपिक 2020 में बेल्जियम के खिलाफ मिली 5-2 की हार के बाद सभी भारतीयों की उम्मीद जर्मनी के खिलाफ होने वाले मैंच पर थी। जर्मनी की टीम ने 24 मीनट के अंदर ही 3-1 की बढ़त हासील कर ली जिसको देखते हुए भारतीयों का हांकी में पदक जीतने का सपना टूटता हुआ दिखाई देने लगा। लेकिन हाफ टाईम के बाद भारत ने सात मिनटों में चारी गोल दाग कर एक बार फिर भारतीय लोगों के मन में उम्मदी बनाई और भारतीय पुरूष हांकी टीम भारतीय लोगों की उम्मीद पर खडी उतरी और 41 साल का लंबा इंतजार खत्म कर भारत को हांकी में ओलंपिक में कास्य पदक जीता दिया।

रवि कुमार दहिया ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में कौन सा पदक प्राप्त किया

टोक्यो ओलंपिक 2020

एथलीट, टोक्यो ओलंपिक 2020 में रजत पदक, पुरूष 57 किलो ग्राम कुश्ती ओलंपिक में काफी उलेटफेर देखने को मिले जहां सब लोग एम सी मैरी कॉम से उम्मीद लगा कर बैठे थे की वह देश के लिये मेडल ले कर आयेगी वहीं लवलीन बोरगोहेन ने वहां काम किया जो एम सी मैरी कॉम नहीं कर उन्होंने इस साल टोक्यो ओलंपिक में मुक्केबाजी में कांस्य पदक जीता ऐसा ही उलेट फेर हमें रवि कुमार दहिया ने कर दिखाया। रवि कुमार दहिया अपने सेमिफाइनल कजाकिस्तान के खिलाडी से 2-9 से पीछे चल रहे थे, और सिर्फ एक मिनट 30 सेकंड का खेल बाकी था और रवि कुमार ने इसी टाइम् में अपना खेल दिखाते हुवे nurislam sanayev को हराते हुवे रजत पदक अपने नाम किया। इसी जीत के साथ रवि कुमार दहिया ओलंपिक में दो रजत पदक जितने वाले दुसरे खिलाड़ी बने।

बजरंग पुनिया ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में कौन सा पदक प्राप्त किया

टोक्यो ओलंपिक 2020

टोक्यो ओलंपिक 2020 में कांस्य पदक विजेता, 65 किलो ग्राम टोक्यों ओलंपिक 2020 में बजरंग पुनिया अपने शुरूआती दो मैच जीत चुक थे और अब सेमिफाइनल उनका सामना अज़रबैजान के खिलाडी Haji Aliyev के साथ हुआ और वहां यहां मुकाबला हार गये। अब बजरंग पुनिया का मुकाबला कजाकिस्तान के उस खिलाड़ी से था जिसने उन्हें 2019 विश्व चैंपियनशिप मुकाबले में हराया था। लेकिन इस बार बजरंग पुनिया ने अपना अक्रामक खेल दिखाते हुए इस मैंच को 8-0 से अपने नाम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.